Asamaan Ke Niche, Ham Aaj / आसमाँ के नीचे, हम आज अपने पीछे / Jewel Thief - 1967

Asamaan Ke Niche, Ham Aaj Apane Peechhe


आसमाँ के नीचे, हम आज अपने पीछे
प्यार का जहाँ, बसा के चले
कदम के निशाँ, बना के चले, आसमाँ…

तुम चले तो फूल जैसे आँचल के रँग से
सज गई राहें, सज गई राहें
पास आओ मै पहना दूँ चाहत का हार ये
खुली खुली बाहें, खुली खुली बाहें
जिस का हो आँचल खुद ही चमन
कहिये, वो क्यूँ, हार बाहों के डाले, आसमाँ…

बोलती हैं आज आँखें कुछ भी न आज तुम
कहने दो हमको, कहने दो हमको
बेखुदी बढ़ती चली है अब तो ख़ामोश ही
रहने दो हमको, रहने दो हमको
इक बार एक बार, मेरे लिये
कह दो, खनकें, लाल होंठों के प्याले, आसमाँ…

साथ मेरे चल के देखो आई हैं दूर से
अब की बहारें, अब की बहारें
हर गली हर मोड़ पे वो दोनों के नाम से
हमको पुकारे, तुमको पुकारे
कह दो बहारों से, आए न इधर
उन तक, उठकर, हम नहीं जाने वाले, आसमाँ.


  • फ़िल्म: ज्वेल थीफ़ / Jewel Thief (1967)
  • गायक/गायिका: किशोर कुमार
  • संगीतकार: एस. डी. बर्मन
  • गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
  • अदाकार: हेलन, अशोक कुमार, तनुजा, देव आनंद, वैजयन्तीमाला

Asamaan-Ke-Niche,-Ham-Aaj-Jewel-Thief-1967


आसमाँ के नीचे, हम आज अपने पीछे

Asamaan Ke Niche, Ham Aaj Apane Peechhe
Pyaar kaa jahaan basaa ke chale
Kadam ke nishaan banaa ke chale

Tum chale to ful jaise aanchal ke rng se, saj gayi raahen
Paas ao main pahanaa duan, chaahat kaa haar ye khuli khuli baahen
Jisakaa ho aanchal khud hi chaman, kahiye wo kyon haar baahon ke daale

Bolati hain aj aankhe, kuchh bhi naa aj tum kahane do ham ko
Bekhudi badhti chali hai, ab to khaamosh hi rahane do ham ko
Ek baar ek baar mere lie, kah do khanake laal honthhon ke pyaale

Saath mere chalake dekho, ayi hai dhum se ab ki bahaaren
Har gali, har mod pe wo donon ke naam se, hamako pukaare, tumako pukaare
Kah do bahaaron se aye idhar, un tak uthhakar ham nahin jaanewaale




आसमाँ के नीचे, हम आज अपने पीछे

Asamaan Ke Niche, Ham Aaj / आसमाँ के नीचे, हम आज अपने पीछे / Jewel Thief - 1967 Asamaan Ke Niche, Ham Aaj /  आसमाँ के नीचे, हम आज अपने पीछे / Jewel Thief - 1967 Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 16, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.