मंगलवार, 13 दिसंबर 2016

Chaudahawin Kaa Chaaand Ho Yaa Afataab Ho / चौदहवीं का चाँद हो, या आफ़ताब हो / Chaudhvin Ka Chand (1960)

Chaudahawin Kaa Chaaand Ho Yaa Afataab Ho

चौदहवीं का चाँद हो, या आफ़ताब हो
जो भी हो तुम खुदा कि क़सम, लाजवाब हो

ज़ुल्फ़ें हैं जैसे काँधे पे बादल झुके हुए
आँखें हैं जैसे मय के पयाले भरे हुए
मस्ती है जिसमे प्यार की तुम, वो शराब हो
चौदहवीं का ...

चेहरा है जैसे झील मे खिलता हुआ कंवल
या ज़िंदगी के साज पे छेड़ी हुई गज़ल
जाने बहार तुम किसी शायर का ख़्वाब हो
चौदहवीं का ...

होंठों पे खेलती हैं तबस्सुम की बिजलियाँ
सजदे तुम्हारी राह में करती हैं कैकशाँ
दुनिया\-ए\-हुस्न\-ओ\-इश्क़ का तुम ही शबाब हो
चौदहवीं का ...


  • चित्रपट : चौदहवी का चांद (१९६०) 
  • गीतकार : शकिल बदायुनी, 
  • गायक : मोहम्मद रफी, 
  • संगीतकार : रवी, 


Chaudahawin-Kaa-Chaaand-Ho-Yaa-Afataab-Ho



Chaudahawin Kaa Chaaand Ho Yaa Afataab Ho
Jo bhi ho tum khudaa ki kasam laajawaab ho

Julfe hain jaise kaandho pe baadal jhuke hue
Aankhe hain jaise may ke payaale bhare hue
Masti hai jis men pyaar ki tum wo sharaab ho

Cheharaa hai jaise jhil men hnsataa hua kanwal
Yaa jindagi ke saaj pe chhedi hui gjl
Jaan-e-bahaar tum kisi shaayar kaa khwaab ho

Hothhon pe khelati hai tabassum ki bijaliyaaan
Sajade tumhaari raah men karati hai kahakashaa
Duniyaa-e-husn-o-ishk kaa tum hi shabaab ho

Chaudahawin Kaa Chaaand Ho Yaa Afataab Ho





FM Hindi Song
FM Hindi Song

नमस्कार दोस्तों मैं FM Hindi Song की और से आप सभी का धन्यवाद देता हु जो आप जो आप सभी ने इस ब्लॉग को अपना समझा साथ ही अपना प्यार और सहयोग दिया..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें