Chehare Pe Giri Zulfe Kah Do / चेहरे पे गिरी ज़ुल्फ़ें कह / Suraj (1966)


Chehare Pe Giri Zulfe Kah Do To Hata Dun Mai Hindi Lyrics

चेहरे पे गिरी ज़ुल्फ़ें कह दो तो हटा दूँ मैं
गुस्ताख़ी माफ़, गुस्ताख़ी माफ़
इक फूल तेरे जूड़े में कह दो तो लगा दूँ मैं
गुस्ताख़ी माफ़, गुस्ताख़ी माफ़

ये रूप, हसीं धूप, बहुत खूब है लेकिन
उल्फ़त के बिना फीका चेहरा तेरा रंगीन
इक दीप मुहब्बत का, कह दो तो जला दूँ मैं
गुस्ताख़ी माफ़, गुस्ताख़ी माफ़
चेहरे पे गिरी ज़ुल्फ़ें…

इक आग, लगी है, मेरे ज़ख्म-ए-जिगर में
ये कैसा करिश्मा है तेरी शोख नज़र में
जो बात रुकी लब पर, कह दो तो बता दूँ मैं
गुस्ताख़ी माफ़, गुस्ताख़ी माफ़
चेहरे पे गिरी ज़ुल्फ़ें…

सरकार, हुआ प्यार, ख़ता हमसे हुई है
अब दिल में तुम ही तुम हो, ये जाँ भी तेरी है
अब चीर के इस दिल को कह दो तो दिखा दूँ मैं
गुस्ताख़ी माफ़, गुस्ताख़ी माफ़
चेहरे पे गिरी ज़ुल्फ़ें…


  • फ़िल्म: सूरज 
  • गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
  • संगीतकार: शंकर-जयकिशन
  • गीतकार: हसरत जयपुरी
  • अदाकार: अजीत, राजेंद्र कुमार, वैजयन्तीमाला

Chehare-Pe-Giri-Zulfe-Kah-Do-Suraj-(1966)

चेहरे पे गिरी ज़ुल्फ़ें कह दो तो हटा दूँ मैं - हिंदी लिरिक्स 

Chehare Pe Giri Zulfe Kah Do To Hata Dun Mai
gustakhi maaf, gustakhi maaf
ik phul tere jude me kah do to laga dun mai
gustakhi maaf, gustakhi maaf

ye rup, hasi dhup, bahut khub hai lekin
ulfat ke bina phika chehara tera ragin
ye rup, hasi dhup, bahut khub hai lekin
ulfat ke bina phika chehara tera ragin
ik dip muhabbat ka, kah do to jala dun mai
gustakhi maaf, gustakhi maaf
chehare pe giri zulfe kah do to hata dun mai
gustakhi maaf, gustakhi maaf

ik aag, lagi hai, mere zakhm-e-jigar me
ye kaisa karishma hai teri shokh nazar me
ik aag, lagi hai, mere zakhm-e-jigar me
ye kaisa karishma hai teri shokh nazar me
jo baat ruki lab par, kah do to bata dun mai
gustakhi maaf, gustakhi maaf
chehare pe giri zulfe kah do to hata dun mai
gustakhi maaf, gustakhi maaf  

sarakar, hua pyaar, khata hamase hui hai
ab dil me tum hi tum ho, ye jaan bhi teri hai
sarakar, hua pyaar, khata hamase hui hai
ab dil me tum hi tum ho, ye jaan bhi teri hai
ab chir ke is dil ko kah do to dikha dun mai
gustakhi maaf, gustakhi maaf
chehare pe giri zulfe kah do to hata dun mai
gustakhi maaf, gustakhi maaf




Chehare Pe Giri Zulfe Kah Do-चेहरे पे गिरी ज़ुल्फ़ें कह दो तो हटा दूँ मैं - हिंदी लिरिक्स 

Chehare Pe Giri Zulfe Kah Do / चेहरे पे गिरी ज़ुल्फ़ें कह / Suraj (1966) Chehare Pe Giri Zulfe Kah Do / चेहरे पे गिरी ज़ुल्फ़ें कह / Suraj (1966) Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 17, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.