Chingaari Koi Bhadke / चिंगारी कोई भड़के, तो सावन उसे बुझाये / Amar Prem (1971)

Chingaari Koi Bhadke, To Saawan Use Bujhaaye

चिंगारी कोई भड़के, तो सावन उसे बुझाये
सावन जो अगन लगाये, उसे कौन बुझाये,
ओ… उसे कौन बुझाये

पतझड़ जो बाग उजाड़े, वो बाग बहार खिलाये
जो बाग बहार में उजड़े, उसे कौन खिलाये
ओ… उसे कौन खिलाये

हमसे मत पूछो कैसे, मंदिर टूटा सपनों का – (2)
लोगों की बात नहीं है, ये किस्सा है अपनों का
कोई दुश्मन ठेस लगाये, तो मीत जिया बहलाये
मन मीत जो घाव लगाये, उसे कौन मिटाये

न जाने क्या हो जाता, जाने हम क्या कर जाते – (2)
पीते हैं तो ज़िन्दा हैं, न पीते तो मर जाते
दुनिया जो प्यासा रखे, तो मदिरा प्यास बुझाये
मदिरा जो प्यास लगाये, उसे कौन बुझाये
ओ… उसे कौन बुझाये

माना तूफ़ाँ के आगे, नहीं चलता ज़ोर किसीका – (2)
मौजों का दोष नहीं है, ये दोष है और किसी का
मजधार में नैया डोले, तो माझी पार लगाये
माझी जो नाव डुबोये, उसे कौन बचाये
ओ… उसे कौन बचाये
चिंगारी …


  1. फिल्मः अमर प्रेम (1972)
  2. गायक/गायिकाः किशोर कुमार
  3. संगीतकारः आर. डी. बर्मन
  4. गीतकारः आनंद बख्शी
  5. कलाकारः राजेश खन्ना, शर्मिला टैगोर


Chingaari-Koi-Bhadke-Amar-Prem-(1971)

चिंगारी कोई भड़के, तो सावन उसे बुझाये

Chingaari Koi Bhadke, To Saawan Use Bujhaaye
Saawan jo agan lagaaye, use kaun bujhaaye
Patajhad jo baag ujaade, wo baag bahaar khilaaye
Jo baag bahaar men ujade, use kaun khilaaye

Hamase mat puchho kaise, mndir tutaa sapanon kaa
Logon ki baat nahin hai, ye kissaa hai apanon kaa
Koi dushman thhens lagaaye, to mit jiyaa bahalaaye
Manamit jo ghaanw lagaaye, use kaun mitaaye

Naa jaane kyaa ho jaataa, jaane ham kyaa kar jaate
Pite hain to jindaa hain, naa pite to mar jaate
Duniyaa jo pyaasaa rakhe, to madiraa pyaas bujhaaye
Madiraa jo pyaas lagaaye, use kaun bujhaaye

Maanaa tufaan ke age, nahin chalataa jor kisi kaa
Maujon kaa dosh nahin hai, ye dosh hai aur kisi kaa
Majdhaar men naiyyaa dole, to maaanjhi paar lagaaye
Maaanjhi jo naaw duboye use kaun bachaaye




Chingaari Koi Bhadke, To Saawan Use Bujhaaye
चिंगारी कोई भड़के, तो सावन उसे बुझाये


Chingaari Koi Bhadke / चिंगारी कोई भड़के, तो सावन उसे बुझाये / Amar Prem (1971) Chingaari Koi Bhadke /  चिंगारी कोई भड़के, तो सावन उसे बुझाये / Amar Prem (1971) Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 15, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.