Dil Tadp Tadp Ke Kah Rahaa Hai / दिल तड़प तड़प के कह रहा है / Madhumati (1958)

Dil Tadp Tadp Ke Kah Rahaa Hai Aa Bhi Jaa Hindi Lyrics 

दिल तड़प तड़प के कह रहा है आ भी जा हिंदी लिरिक्स
तू हमसे आँख ना चुरा, तुझे कसम है आ भी जा (2)

(तू नहीं तो ये बहार क्या बहार है
गुल नहीं खिले तो तेरा इन्तज़ार है) – 2
के तेरा इन्तज़ार है – 2
दिल तड़प तड़प …

आ आ
दिल धड़क धड़क के दे रहा है ये सदा
तुम्हारी हो चुकीं हूँ मैं
तुम्हारे साथ हूँ सदा

(तुमसे मेरी ज़िन्दगी का ये श्रृंगार है
जी रही हूँ मैं के मुझको तुमसे प्यार है) – 2
के मुझको तुमसे प्यार है – 2

दिल तड़प तड़प के कह रहा है …

(मुस्कुराते प्यार का असर है हर कहीं
दिल कहाँ है हम किधर हैं कुछ खबर नहीं) – 2
किधर है कुछ खबर नहीं – 2

दिल तड़प तड़प के कह रहा है …



  • फ़िल्म: मधुमती / Madhumati (1958)
  • गायक/गायिका: लता मंगेशकर
  • संगीतकार: सलिल चौधरी
  • गीतकार: शैलेंद्र सिंह
  • अदाकार: जॉनीवाकर, प्राण, दिलीप कुमार, वैजयन्ती माला

Dil-Tadp-Tadp-Ke-Kah-Rahaa-Hai-Madhumati[(1958)

दिल तड़प तड़प के कह रहा है आ भी जा हिंदी लिरिक्स 

Dil Tadp Tadp Ke Kah Rahaa Hai Aa Bhi Jaa
Tu hamase aankh naa churaa, tujhe kasam hai a bhi jaa

Tu nahin to ye bahaar kyaa bahaar hai
Gul nahin khile ke teraa intajaar hai

Dil dhadk dhadk ke de rahaa hai ye sadaa
Tumhaari ho chuki huan main, tumhaare paas huan sadaa

Tumase meri jindagi kaa ye singaar hai
Ji rahi huan main ke mujhako tumase pyaar hai

Muskuraate pyaar kaa asar hai har kahin
Ham kahaaan hain dil kidhar hai kuchh khabar nahin






Dil Tadp Tadp Ke Kah Rahaa Hai -दिल तड़प तड़प के कह रहा है आ भी जा हिंदी लिरिक्स 


Dil Tadp Tadp Ke Kah Rahaa Hai / दिल तड़प तड़प के कह रहा है / Madhumati (1958) Dil Tadp Tadp Ke Kah Rahaa Hai / दिल तड़प तड़प के कह रहा है / Madhumati (1958) Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 18, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.