Karawaten Badalate Rahe, Saari Raat Ham/करवटें बदलते रहे सारी रात हम

Karawaten Badalate Rahe, Saari Raat Ham


करवटें बदलते रहे सारी रात हम, आप की क़सम
ग़म न करो दिन जुदाई के बहुत हैं कम, आप की क़सम

याद तुम आते रहे इक हूक़ सी उठती रही
नींद मुझसे, नींद से मैं भागती छुपती रही
रात भर बैरन निगोड़ी चाँदनी चुभती रही
आग सी जलती रही, गिरती रही शबनम, आप की क़सम   ...

झील केए आँखों में आशिक़ डूब के खो जायेगा
ज़ुल्फ़ के साये में दिल नग़मा भरा सो जायेगा
तुम चले जाओ नहीं तो कुछ न कुछ हो जायेगा
डगमगा जायेंगे ऐसे हाल में क़दम, आप की क़सम   ...

रूठ जायें हम तो तुम हमको मना लेना सनम
दूर हों तो पास हमको तुम बुला लेना सनम
कुछ गिला हो तो गले हमको लगा लेना सनम
टूट न जाये कभी ये प्यार की क़सम, आप की क़सम   ...


  • चित्रपट : आप की कसम (१९७४) 
  • गायक : लता - किशोर, 
  • गीतकार : आनंद बक्षी, 
  • संगीतकार : राहुल देव बर्मन, 


Karawaten-Badalate-Rahe-Saari-Raat-Ham


करवटें बदलते रहे सारी रात हम, आप की क़सम

Karawaten Badalate Rahe, Saari Raat Ham
Ap ki kasam, ap ki kasam
Gam naa karo, din judaai ke bahot hain kam
Ap ki kasam, ap ki kasam

Yaad tum ate rahe, ek huk si uthhati rahi
Nind mujh se, nind se main, bhaagati chhupati rahi
Raat bhar bairan nigodi chaandani chubhati rahi
Ag si jalati rahi, girati rahi shabanam

Jhil si aankhon men ashik dub ke kho jaaegaa
Julf ke saaye men dil, aramaa bharaa so jaaegaa
Tum chale jaao, nahin to kuchh naa kuchh ho jaaegaa
Dagamagaa jaayenge aise haal men kadam

Ruthh jaae ham to tum hamako manaa lenaa sanam
Dur ho to paas hamako, tum bulaa lenaa sanam
Kuchh gilaa ho to gale hamako lagaa lenaa sanam
Tut naa jaae kabhi ye pyaar ki kasam




Karawaten Badalate Rahe, Saari Raat Ham/करवटें बदलते रहे सारी रात हम Karawaten Badalate Rahe, Saari Raat Ham/करवटें बदलते रहे सारी रात हम Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 13, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.