Khud Ko Kya Samajhti Hai / खुद को क्या समझती है / Lyrics In Hindi Khiladi 1992

Khud Ko Kya Samajhti Hai Kitna Akadti Hai Lyrics In Hindi Khiladi 1992 

जहाँ वो जायेगी, वहीं हम जायेंगे (२)
खुद को क्या समझती है कितना अकड़ती है
कौलेज में नयी नयी आयी एक लड़की है

हो यारों ये हमें लगती है सिरफ़िरी
आओ चखा दें मज़ा........

तौबा तौबा ये अदा
दीवानी है क्या पता
पूछो ये किस बात पे इतना इतराती है
जाने किस की भूल है
ये गोभी का फूल है
बिल्ली जैसे लगती है मेकप जब करती है
गालों पे जो लाली है
होठों पे गाली है
ये जो नखरे वाली है
लड़की है या है बला

खुद को क्या समझता है कितना अकड़ता है
कौलेज का नया नया मजनू ये लगता है
हमसे हो गया अब इसका सामना
आओ चखा दें मज़ा

खुद …

हमको देता है गुलाब नीयत इसकी है खराब
सावन के अँधे को तो हरियाली दिखती है
क्या इसको ये होश है ये धरती पर बोझ है
मर्द है ये सिर्फ़ नाम का आखिर किस काम का
चेहरा अब क्यों लाल है
बदली क्यों चाल है
अरे इतना अब क्यों बेहाल है
हम भी तो देखें ज़रा
खुद को क्या

हमसे आँखें चार करो छोड़ो गुस्सा प्यार करो
यारों के हम यार हैं लड़ना बेकार है

उलझन में ये पड़ गये शायद हम से डर गये
देंगे भर के प्यार के देखो ये हार के
प्यार कि ये रीत है हार भी जीत है

सबसे बढ़ कर प्रीत है
लगजा गले दिलरुबा


Khud-Ko-KyaSamajhti-Hai-Khiladi-1992


खुद को क्या समझता है कितना अकड़ता है हिंदी लिरिक्स

Jahan Vo Jayegi, Wahin Ham Jayenge (2)
Khud Ko Kya Samajhti Hai Kitna Akadti Hai
Kaulej Men Nayi Nayi Aayi Ek Ladaki Hai

Ho Yaron Ye Hamen Lagati Hai Sirfiri
Aao Chakha Den Maza

Tauba Tauba Ye Ada
Deewaanii Hai Kya Pata
Puchho Ye Kis Bat Pe Itana Itarati Hai
Jaane Kis Ki Bhul Hai
Ye Gobhi Ka Phool Hai
Billi Jaise Lagati Hai Mekap Jab Karti Hai
Gaalon Pe Jo Lali Hai
Hothon Pe Gali Hai
Ye Jo Nakhare Wali Hai
Ladaki Hai Ya Hai Bala

Khud Ko Kya Samajhata Hai Kitana Akadata Hai
Kaulej Ka Naya Naya Majnu Ye Lagta Hai
Hamase Ho Gaya Ab Isaka Samana
Aao Chakha Den Maza

Khud Ko….

Hamako Deta Hai Gulaab Niyat Isaki Hai Kharab
Saavan Ke Andhe Ko To Hariyali Dikhti Hai
Kya Isako Ye Hosh Hai Ye Dharati Par Bojh Hai
Mard Hai Ye Sirf Nam Ka Aakhir Kis Kam Ka
Chehara Ab Kyon Laal Hai
Badali Kyon Chaal Hai
Are Itana Ab Kyon Behal Hai
Ham Bhi To Dekhen Zara
Khud Ko Kyaa

Hamase Aankhen Chaar Karo Chodo Gussa Pyar Karo
Yaaron Ke Ham Yaar Hain Ladana Bekar Hai

Ulajhan Men Ye Pad Gaye Shayad Ham Se Dar Gaye
Denge Bhar Ke Pyar Ke Dekho Ye Haar Ke
Pyaar Ki Ye Reet Hai Haar Bhi Jeet Hai

Sabase Badh Kar Priit Hai. Lagajaa Gale Dilarubaa


Khud Ko Kya Samajhti Hai Full Video Song | Khiladi | Akshay Kumar, Ayesha Jhulka

Khud Ko Kya Samajhti Hai / खुद को क्या समझती है / Lyrics In Hindi Khiladi 1992 Khud Ko Kya Samajhti Hai / खुद को क्या समझती है / Lyrics In Hindi Khiladi 1992 Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 30, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.