Koi Pathar Se Na Mere Diwane / हुस्न हाज़िर है मुहब्बत की सज़ा पाने / Laila Majnu (1976)

Koi Pathar Se Na  Mere Diwane Ko  Hindi Somg Lyrics 

हुस्न हाज़िर है मुहब्बत की सज़ा पाने को
कोई पत्थर से न मारे मेरे दीवाने को

मेरे दीवाने को इतना न सताओ लोगों
ये तो वहशी है तुम्हीं होश में आओ लोगों
बहुत रंजूर है ये, ग़मों से चूर है ये
ख़ुदा का ख़ौफ़ उठाओ बहुत मजबूर है ये
क्यों चले आये हो बेबस पे सितम ढाने को
कोई पत्थर से न मारे ...

मेरे जलवों की ख़ता है जो ये दीवाना हुआ
मैं हूँ मुजरिम ये अगर होश से बेगाना हुआ
मुझे सूली चढ़ा दो या शोलों पे जला दो
कोई शिक़वा नहीं है जो जी चाहे सज़ा दो
बख़्श दो इस को मैं तैयार हूँ मिट जाने को
कोई पत्थर से न मारे ...

पत्थरों को भी वफ़ा फूल बना सकती है
ये तमाशा भी सर\-ए\-आम दिखा सकती है
लो अब पत्थर उठाओ, ज़माने के ख़ुदाओं
मैं तुम को आज़माऊँ, मुझे तुम आज़माओ
अब दुआ अर्श पे जाती है असर लाने को
कोई पत्थर से न मारे ...

  • चित्रपट / लैला मजनू 
  • संगीतकार / मदन मोहन-
  • गीतकार / साहिर-
  • गायक / लता मंगेशकर-

Koi-Pathar-Se-Na-Mare-Diwane-Laila Majnu-(1976)

हुस्न हाज़िर है मुहब्बत की सज़ा पाने को हिंदी लिरिक्स 

Husn Hazir Hai Muhabbat Ki Saja Pane Ko,
Koi Pathar Se Na  Mere Diwane Ko
koi patthar se naa mare mere divane ko

mere divane ko itana naa satao logo
yeh toh vahashi hai tumhin hosh me aao logo
bahut ranjur hai yeh, gamo se chur hai yeh
kuda kaa kauf uthao bahut majabur hai yeh
kyon chale aaye ho kyon chale aaye ho bebas pe sitam dhane ko
koi patthar se naa mare mere divane ko


mere jalavo ki khata hai jo yeh divana huwa
mai hu mujarim yeh agar hosh se begana huwa
mujhe sooli chadha do ya sholon pe jala do
baksh do iss ko baksh do iss ko mai taiyar hu mit jane ko
koi patthar se naa mare mere divane ko


pattharon ko bhi vafa phul bana sakati hai
yeh tamasha bhi sare aam dikha sakati hai
lo abb patthar uthao, jamane ke kudaon
mai tum ko aajamao, mujhe tum aajamao
abb duwa arsh pe abb duwa arsh pe jati hai asar lane ko
abb duwa arsh pe jati hai asar lane ko
koi patthar se naa mare mere divane ko
husn hajir hai muhabbat ki saja pane ko
koi patthar se naa mare mere divane ko


हुस्न हाज़िर है मुहब्बत की सज़ा पाने को हिंदी लिरिक्स
Husn Hazir Hai Muhabbat Ki Saja Pane Ko,
Koi Pathar Se Na  Mere Diwane Ko  Hindi Somg Lyrics 


Koi Pathar Se Na Mere Diwane / हुस्न हाज़िर है मुहब्बत की सज़ा पाने / Laila Majnu (1976) Koi Pathar Se Na  Mere Diwane / हुस्न हाज़िर है मुहब्बत की सज़ा पाने /  Laila Majnu (1976) Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 25, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.