Mast Baharon Ka Main Aashiq / मस्त बहारों का मैं आशिक़ / Farz (1967)

Mast Baharon Ka Main Aashiq Hindi  Lyrics 

ऊ ऊ
मस्त बहारों का मैं आशिक़ मैं जो चाहें यार करूँ
चाहें गुलों के साए से खेलूँ चाहें कली से प्यार करूँ
सारा जहाँ है मेरे लिए मेरे लिए
ऊ ऊ मस्त बहारों का…

मैं हूँ वो दीवाना जिसके सब दीवाने हाँ
किसको है ज़रूरत तेरी ऐ ज़माने हाँ
मेरा अपना रास्ता दुनिया से क्या वास्ता
मेरे दिल में तमन्नाओं की
दुनिया जवां है मेरे लिए
ऊ ऊ मस्त बहारों का…

मेरी आँखों से ज़रा आँखें तो मिला दे हाँ
मेरी राहें रोक ले नज़रें तो बिछा दे हाँ
तेरे सर की है कसम मैं जो चला गया सनम
तो ये रुत भी चली जाएगी
ये तो यहाँ है मेरे लिए
ऊ ऊ मस्त बहारों का…

सबको ये बता दो कह दो हर नज़र से हाँ
कोई भी मेरे सिवा गुज़रे ना इधर से हाँ
बतला दो जहां को समझा दो ख़िज़ां को
आए जाए यहाँ ना कोई
ये गुलिस्तां है मेरे लिए
ऊ ऊ मस्त बहारों का…


  • फ़िल्म: फ़र्ज़ / Farz (1967)
  • गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी
  • संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
  • गीतकार: आनंद बख्शी
  • अदाकार: जीतेंद्र, बबीता

Mast-Baharon-Ka-Main-Aashiq-Farz-1967)

मस्त बहारों का मैं आशिक़ मैं जो चाहें यार करूँ  - हिंदी लिरिक्स 

Mast Baharon Ka Main Aashiq 
Main jo chaahe yaar karoon
Chaahe gulon ke saaye se kheloon
Chaahe kali se pyaar karoon
Sara jahan hai mere liye, mere liye

Mast baharon ka main aashiq
Main jo chaahe yaar karoon
Chaahe gulon ke saaye se kheloon
Chaahe kali se pyaar karoon
Sara jahan hai mere liye, mere liye

Main hoon woh deewana
Jiske sab deewane ha
Main hoon woh deewana
Jiske sab deewane ha
Kisko hai zaroorat
Teri aye zamane ha
Mera apna rasta duniya se kya vasta
Mere dil mein tamannaon ki
Duniya jawan hai mere liye
Mast baharon ka main aashiq
Main jo chaahe yaar karoon
Chaahe gulon ke saaye se kheloon
Chaahe kali se pyaar karoon
Sara jahan hai mere liye, mere liye

Meri aankhon se zara aankhein to mila de ha
Meri aankhon se zara aankhein to mila de ha
Meri raahein rok le nazrein to bichha de ha
Tere sar ki hai kasam
Main jo chala gaya sanam
To yeh rut bhi chali jaayegi
Yeh to yahan hai mere liye
Mast baharon ka main aashiq
Main jo chaahe yaar karoon
Chaahe gulon ke saaye se kheloon
Chaahe kali se pyaar karoon
Sara jahan hai mere liye, mere liye

Sabko yeh bata do keh do har nazar se ha
Sabko yeh bata do keh do har nazar se ha
Koi bhi mere siwa guzre na idhar se ha
Batla do jahan ko samjha do kiza ko
Aaye jaaye yahan na koi
Yeh gulistan hai mere liye
Mast baharon ka main aashiq
Main jo chaahe yaar karoon
Chaahe gulon ke saaye se kheloon
Chaahe kali se pyaar karoon
Sara jahan hai mere liye, mere liye
Mere liye, mere liye
Mere liye, mere liye







Mast Baharon Ka Main Aashiq -मस्त बहारों का मैं आशिक़ मैं जो चाहें यार करूँ  - हिंदी लिरिक्स 


Mast Baharon Ka Main Aashiq / मस्त बहारों का मैं आशिक़ / Farz (1967) Mast Baharon Ka Main Aashiq / मस्त बहारों का मैं आशिक़  /  Farz (1967) Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 17, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.