Mehabub Mere Tu Hai To Duniyaa / महबूब मेरे महबूब मेरे / Patthar Ke Sanam (1967)

Mehabub Mere Tu Hai To Duniyaa - Hindi Lyrics

महबूब मेरे महबूब मेरे – 2
तू है तो दुनिया कितनी हसीं है
जो तू नहीं तो कुछ भी नहीं है
महबूब मेरे महबूब मेरे
तू है तो दुनिया कितनी हसीं है
जो तू नहीं तो कुछ भी नहीं है
महबूब मेरे…

तू हो तो बढ़ जाती है क़ीमत मौसम की
ये जो तेरी आँखें हैं शोला शबनम सी
यहीं मरना भी है मुझको मुझे जीना भी यहीं है
महबूब मेरे…

अरमाँ किसको जन्नत की रंगीं गलियों का
मुझको तेरा दामन है बिस्तर कलियों का
जहाँ पर हैं तेरी बाँहें मेरी जन्नत भी वहीं है
महबूब मेरे…

रख दे मुझको तू अपना दीवाना कर के
नज़दीक आजा फिर देखूँ तुझको जी भर के
मेरे जैसे होंगे लाखों कोई भी तुझसा नहीं है
महबूब मेरे…
हो महबूब मेरे…
महबूब मेरे…


फ़िल्म: पत्थर के सनम / 
गायक/गायिका: लता मंगेशकर, मुकेश
संगीतकार: लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
अदाकार: वहीदा रहमान, मुमताज़, मनोज कुमार
Mehabub-Mere-Tu-Hai-To-Duniyaa-Patthar-Ke-Sanam-(1967)


महबूब मेरे महबूब मेरे –तू है तो दुनिया कितनी हसीं है हिंदी लिरिक्स 

Mehabub Mere, Mehabub Mere
Tu Hai To Duniyaa kitani hasin hai
Jo tu nahin to, kuchh bhi nahin hai

Tum ho to badh jaati hai kimat mausam ki
Ye jo teri aankhe hain sholaa shabanam si
Yahi maranaa bhi hai mujhako, mujhe jinaa bhi yahi hai

Aramaan kisako jannat ki rngin galiyon kaa
Mujhako teraa daaman hai bistar kaliyon kaa
Jahaaanpar hain teri baahen, meri jannat bhi wahi hai

Rakh de mujhako tu apanaa diwaanaa kar ke
Najdik a jaa fir dekhu tujhako ji bhar ke
Mere jaise honge laakhon, koi bhi tujhasaa nahin hai





Mehabub Mere Tu Hai To Duniyaa- महबूब मेरे महबूब मेरे-Hindi lyrics



Mehabub Mere Tu Hai To Duniyaa / महबूब मेरे महबूब मेरे / Patthar Ke Sanam (1967) Mehabub Mere Tu Hai To Duniyaa / महबूब मेरे महबूब मेरे / Patthar Ke Sanam (1967) Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 16, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.