Phoolon Ke Rang Se, Dil Ki Kalam Se / फूलों के रंग से, दिल की कलम से / Prem Pujari (1970)

 Phoolon Ke Rang Se, Dil Ki Kalam Se, Tujhako Likhi Roz Paati Hindi Song Lyrics 

फूलों के रंग से, दिल की कलम से तुझको लिखी रोज पाती
कैसे बताऊँ किस किस तरह से पल पल मुझे तू सताती
तेरे ही सपने लेकर के सोया तेरी ही यादों में जागा
तेरे ख़यालों में उलझा रहा यूँ जैसे के माला में धागा

हाँ बादल बिजली चन्दन पानी जैसा अपना प्यार
लेना होगा जनम हमें कई कई बार हाँ इतना मदीर
इतना मधुर तेरा मेरा प्यार लेना होगा जनम हमें कई कई बार

साँसों की सरगम धड़कन की बीना सपनों की गीतांजली तू
मन की गली में महके जो हरदम ऐसी जूही की कली तू
छोटा सफ़र हो, लंबा सफ़र हो सूनी डगर हो या मेला
याद तू आए, मन हो जाए भीड़ के बीच अकेला

हाँ बादल बिजली चन्दन पानी जैसा अपना प्यार
लेना होगा जनम हमें कई कई बार हाँ इतना मदीर
इतना मधुर तेरा मेरा प्यार लेना होगा जनम हमें कई कई बार

पूरब हो पश्चिम, उत्तर हो दक्षिण तू हर जगह मुस्कुराये
जितना ही जाऊँ मैं दूर तुझसे उतनी ही तू पास आये
आंधी ने रोका, पानी ने टोका दुनिया ने हंसकर पुकारा
तसवीर तेरी लेकिन लिए मैं कर आया सब से किनारा

हाँ बादल बिजली चन्दन पानी जैसा अपना प्यार
लेना होगा जनम हमें कई कई बार हाँ इतना मदीर
इतना मधुर तेरा मेरा प्यार लेना होगा जनम हमें कई कई बार
कई कई बार.. कई कई बार..

  • चित्रपट : प्रेम पुजारी (१९७०)
  • गीतकार : नीरज, 
  • गायक : किशोर कुमार, 
  • संगीतकार : सचिन देव बर्मन,

 Phoolon-Ke-Rang-Se-Dil-Ki-Kalam-Se- Prem-Pujari-(1970)


फूलों के रंग से, दिल की कलम से तुझको लिखी रोज पाती हिंदी लिरिक्स 

 Phoolon Ke Rang Se, Dil Ki Kalam Se, Tujhako Likhi Roz Paati
Kaise bataauan kis kis tarah se, pal pal mujhe tu satati
Tere hi sapane lekar ke soya, teri hi yaadon men jaga
Tere khayaalon men ulajha rahaa yuan jaise ke maalaa men dhaga

Baadal bijali chandan pani, jaisaa apana pyar
Lenaa hogaa janam hame ki ki baar
Itanaa madir, itanaa madhur teraa mera pyar
Lena hoga janam hame ki ki baar

Saanson ki saragam dhadkan ki bina, sapanon ki gitanjali tu
Man ki gali men mahake jo haradam aisi juhi ki kali tu
Chhotaa safr ho, lnbaa safr ho, suni dagar ho yaa mela
Yaad tu ae, man ho jaae, bhid ke bich akelaa
Badal bijali chandan paani, jaisaa apanaa pyaar.. ..

Purab ho pashchim, uttar ho dakshin tu har jagah muskuraaye
Jitanaa hi jauan main dur tujhase, utani hi tu paas aye
Andhi ne rokaa, paani ne tokaa, duniyaa ne hasakar pukaaraa
Tasawir teri lekin lie main, kar ayaa sab se kinaaraa
Badal bijali chandan paani, jaisaa apana pyar..


 फूलों के रंग से, दिल की कलम से तुझको लिखी रोज पाती हिंदी लिरिक्स
 Phoolon Ke Rang Se, Dil Ki Kalam Se, Tujhako Likhi Roz Paati Hindi Song Lyrics 


Phoolon Ke Rang Se, Dil Ki Kalam Se / फूलों के रंग से, दिल की कलम से / Prem Pujari (1970)  Phoolon Ke Rang Se, Dil Ki Kalam Se /  फूलों के रंग से, दिल की कलम से / Prem Pujari (1970) Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 23, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.