Rulaa ke gayaa Sapanaa Meraa / रुला के गया सपना मेरा / Jewel Thief - 1967

Rulaa ke gayaa Sapanaa Meraa - hindi lyrics

रुला के गया सपना मेरा
बैठी हूँ कब हो सवेरा, रुला…

वही है ग़म-ए-दिल, वही है चंदा, तारे
हाय, वही हम बेसहारे
आधी रात वही है, और हर बात वही है
फिर भी न आया लुटेरा, रुला…

कैसी ये ज़िंदगी, कि साँसों से हम, ऊबे
हाय, कि दिल डूबा हम डूबे
एक दुखिया बेचारी, इस जीवन से हारी
उस पर ये ग़म का अन्धेरा, रुला…


  • फ़िल्म: ज्वेल थीफ़ / Jewel Thief (1967)
  • गायक/गायिका: लता मंगेशकर
  • संगीतकार: एस. डी. बर्मन
  • गीतकार: मज़रूह सुल्तानपुरी
  • अदाकार: तनुजा, देव आनंद, वैजयन्तीमाला


Rulaa-ke-gayaa-Sapanaa-Meraa-Jewel-Thief-1967

रुला के गया सपना मेरा - हिंदी लिरिक्स 

Rulaa ke gayaa Sapanaa Meraa
Baithhi huan kab ho saweraa

Wahi hai gam-e-dil, wahi hain chandaa taare
Wahi ham besahaare
Adhi raat wahi hai, aur har baat wahi hai
Fir bhi naa ayaa luteraa

Kaisi ye jindagi ke saaanson se ham ube
Ke dil dubaa, ham dube
Ek dukhiyaa bechaari, is jiwan se haari
Us par ye gam kaa andheraa






Rulaa ke gayaa Sapanaa Meraa रुला के गया सपना मेरा  - Hindi Lyrics




Rulaa ke gayaa Sapanaa Meraa / रुला के गया सपना मेरा / Jewel Thief - 1967 Rulaa ke gayaa Sapanaa Meraa / रुला के गया सपना मेरा / Jewel Thief - 1967 Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 16, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.