Tere Husn Ki Kyaa Taarif Karuan / तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ / Leader (1964)

Tere Husn Ki Kyaa Taarif Karuan Hindi Lyrics 

तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ
तेरे हुस्न की
तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ
कुछ कहते हुए भी डरता हूँ
कहीं भूल से तू ना समझ बैठे
की मैं तुझसे मोहब्बत करता हूँ

मेरे दिल में कसक सी होती है, मेरे दिल में
मेरे दिल में कसक सी होती है
तेरे राह से जब मैं गुज़रती हूँ
इस बात से ये ना समझ लेना
की मैं तुझसे मोहब्बत करती हूँ

(तेरी बात मे गीतों की सरगम
तेरी चाल मे पायल की छम छम) – 2
कोई देख ले तुझको एक नजर – 2
मर जाएं तेरी आँखों कसम
मैं भी हूँ अजब इक दीवाना
मरता हूँ ना आहें भरता हूँ
कहीं भूल से तू ना समझ बैठे
की मैं तुझसे मोहब्बत करता हूँ

(मेरे सामने जब तू आता है
जी धक से मेरा हो जाता है) – 2
लेती है तमन्ना अंगड़ायी – 2
दिल जाने कहाँ खो जाता है
महसूस ये होता है मुझको
जैसे मैं तेरा दम भरती हूँ
इस बात से ये ना समझ लेना
की मैं तुझसे मोहब्बत करती हूँ

तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूं
कुछ कहते हुए भी डरता हूँ
कहीं भूल से तू ना समझ बैठे
की मैं तुझसे मोहब्बत करता हूँ



  • फ़िल्म: लीडर / Leader (1964)
  • गायक/गायिका: मोहम्मद रफ़ी, लता मंगेशकर
  • संगीतकार: नौशाद
  • गीतकार: शकील बदांयुनी
  • अदाकार: दिलीप कुमार, वैजयन्तीमाला
Tere-Husn-Ki-Kyaa-Taarif-Karuan-Leader-(1964)

तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ हिंदी लिरिक्स 

Tere Husn Ki Kyaa Taarif Karuan
Kuchh kahate hue bhi darataa huan
Kahin bhul se tu naa samajh baithhe
Ki main tujhase mohabbat karataa huan

Mere dil men kasak si hoti hai
Teri raah se jab main gujarati huan
Is baat se ye naa samajh lenaa
Ki main tujh se mohabbat karati huan

Teri baat men giton ki saragam
Teri chaal men paayal ki chhamachham
Koi dekh le tujh ko ek najr
Mar jaaye teri aankhon ki kasam
Main bhi huan ajab ek diwaanaa
Marataa huan naa ahen bharataa huan
Kahin bhul se tu naa samajh baithhe
Ki main tujh se mohabbat karataa huan

Mere saamane jab tu ataa hai
Ji dhak se meraa ho jaataa hai
Leti hai tamannaa angadaai
Dil jaane kahaaan kho jaataa hai
Mahasus ye hotaa hai mujhako
Jaise main teraa dam bharati huan
Is baat se ye naa samajh lenaa
Ki main tujh se mohabbat karati huan


Tere Husn Ki Kyaa Taarif Karuan -तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ हिंदी लिरिक्स 


Tere Husn Ki Kyaa Taarif Karuan / तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ / Leader (1964) Tere Husn Ki Kyaa Taarif Karuan / तेरे हुस्न की क्या तारीफ़ करूँ / Leader (1964) Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 18, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.