गुरुवार, 22 दिसंबर 2016

Ye Mera Prem Patr Padhkar Ke Tum / ये मेरा प्रेम पत्र पढ़ कर के तुम नाराज़ न होना / Sangam (1964)

Ye Meraa Prem Patr Padhkar Ke Tum Naaraaj Na Hona Hindi Song Lyrics

मेहरबां लिखूं, हसीना लिखूं, या दिलरुबा लिखूं
हैरान हूँ कि आप को इस ख़त में क्या लिखूं
ये मेरा प्रेम पत्र पढ़ कर के तुम नाराज़ न होना हिंदी लिरिक्स
कि तुम मेरी ज़िन्दगी हो कि तुम मेरी बंदगी हो

तुझे मैं चाँद कहता था, मगर उसमें भी दाग है
तुझे सूरज मैं कहता था, मगर उसमें भी आग है
तुझे इतना ही कहता हूँ
कि मुझको तुमसे प्यार है
तुमसे प्यार है, तुमसे प्यार है
ये मेरा प्रेम पत्र…

तुझे गंगा मैं समझूंगा, तुझे जमुना मैं समझूंगा
तू दिल के पास है इतनी, तुझे अपना मैं समझूंगा
अगर मर जाऊं रूह भटकेगी
तेरे इंतज़ार में,
इंतज़ार में, इंतज़ार में
ये मेरा प्रेम पत्र…

  • चित्रपट : संगम (१९६४) 
  • गीतकार : हसरत जयपुरी, 
  • गायक : मोहम्मद रफी, 
  • संगीतकार : शंकर जयकिशन, 

Ye-MeraPremPatr-Padhkar-Ke-Tum-Sangam-1964)

ये मेरा प्रेम पत्र पढ़ कर के तुम नाराज़ न होना हिंदी लिरिक्स 

Meharabaan likhuan, hasinaa likhuan yaa dilarubaa likhuan
Hairaan huan ki apako is khat men kyaa likhuan?

Ye Meraa Prem Patr Padhkar Ke Tum Naaraaj Na Hona
Ki tum meri jindagi ho, ki tum meri bndagi ho

Tujhe main chaaand kahataa thaa, magar us men bhi daag hai
Tujhe suraj main kahataa thaa, magar us men bhi ag hai
Tujhe itanaa hi kahataa huan ki mujhako tumase pyaar hai

Tujhe gngaa main samajhuangaa, tujhe jamunaa main samajhuangaa
Tu dil ke paas hai itani, tujhe apanaa main samajhuangaa
Agar mar jaauan ruh bhatakegi tere intajaar main


ये मेरा प्रेम पत्र पढ़ कर के तुम नाराज़ न होना हिंदी लिरिक्स
Ye Mera Prem Patr Padhkar Ke Tum Naaraaj Na Hona Hindi Song Lyrics


FM Hindi Song
FM Hindi Song

नमस्कार दोस्तों मैं FM Hindi Song की और से आप सभी का धन्यवाद देता हु जो आप जो आप सभी ने इस ब्लॉग को अपना समझा साथ ही अपना प्यार और सहयोग दिया..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें