Zihaal-e-Maskin Makun / ज़िहाल-ए-मिस्किन मकुन-ब-रन्जिश / Ghulami (1985)

Zihaal-e-Maskin Makun Baa-Rnzish Hindi Song Lyrics

ज़िहाल-ए-मिस्किन मकुन-ब-रन्जिश,
बहाल-ए-हिज्र बेचारा दिल है

सुनाई देती है जिसकी धड़कन
तुम्हारा दिल या हमारा दिल है

वो आके पहलू में ऐसे बैठे
के शाम रंगीन हो गई है (३)
ज़रा ज़रा सी खिली तबीयत
ज़रा सी ग़मगीन हो गई है

(कभी कभी शाम ऐसे ढलती है
के जैसे घूँघट उतर रहा है ) – 2
तुम्हारे सीने से उठ था धुआँ
हमारे दिल से गुज़ार रहा है

ये शर्म है या हया है क्या है
नजर उठाते ही झुक गयी है
तुम्हारी पलकों से गिरके शबनम
हमारी आँखों में रुक गयी है

  • फ़िल्म – गुलामी (1985)
  • गायक/गायिका – लता मंगेशकर, शब्बीर कुमार
  • संगीतकार – लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
  • गीतकार – ग़ुलज़ार
  • अदाकार – मिथुन चक्रवर्ती, अनिता राज
Zihaal-e-Maskin-Makun-Ghulami-(1985)


ज़िहाल-ए-मिस्किन मकुन-ब-रन्जिश,हिंदी लिरिक्स Ghulami (1985)

Zihaal-e-Maskin Makun Baa-Rnzish Hindi Song Lyrics
Bahaal-e-hizaraa Bechaaraa Dil Hai
Sunaai Deti Hai Jisaki Dhadkan
Tumhaaraa Dil Yaa Hamaaraa Dil Hai

Wo a ke pahalu men aise baithhe
Ke shaam rngin ho gayi hai
Jraa jraasi khili tabiyat
Jraasi gamagin ho gayi hai

Ajib hain dil ke dard yaaron
Naa ho to mushkil hai jinaa isakaa
Jo ho to har dard ek hiraa
Har ek gam hai naginaa isakaa

Kabhi kabhi shaam aisi dhalati hai
Ke jaise ghuanghat utaar rahaa hai
Tumhaare sine se uthhataa dhuaan
Hamaare dil se gujr rahaa hai

Ye sharm hai yaa hayaa hai, kyaa hai
Najr uthhaate hi jhuk gayi hai
Tumhaari palakon se girake shabanam,
Hamaari aankhon men ruk gayi hai



Zihaal-e-Maskin Makun Baa-Rnzish Hindi Song Lyrics
ज़िहाल-ए-मिस्किन मकुन-ब-रन्जिश,हिंदी लिरिक्स Ghulami (1985)

Zihaal-e-Maskin Makun / ज़िहाल-ए-मिस्किन मकुन-ब-रन्जिश / Ghulami (1985) Zihaal-e-Maskin Makun / ज़िहाल-ए-मिस्किन मकुन-ब-रन्जिश / Ghulami (1985) Reviewed by FM Hindi Song on दिसंबर 20, 2016 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.