गुरुवार, 19 जनवरी 2017

Chodo Kal ki Baate / छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी / Lyrics In Hindi

Chodo Kal ki Baate, Kal Ki Baat Puraani-Lyrics In Hindi - Hum Hindustani (1960)

छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी
नए दौर में लिखेंगे, मिल कर नई कहानी
हम हिन्दुस्तानी, हम हिन्दुस्तानी

आज पुरानी ज़ंजीरों को तोड़ चुके हैं
क्या देखें उस मंज़िल को जो छोड़ चुके हैं
चांद के दर पर जा पहुंचा है आज ज़माना
नए जगत से हम भी नाता जोड़ चुके हैं
नया खून है नई उमंगें, अब है नई जवानी
हम हिन्दुस्तानी...

हमको कितने ताजमहल हैं और बनाने
कितने हैं अजंता हम को और सजाने
अभी पलटना है रुख कितने दरियाओं का
कितने पवर्त राहों से हैं आज हटाने
नया खून है...

आओ मेहनत को अपना ईमान बनाएं
अपने हाथों से अपना भगवान बनाएं
राम की इस धरती को गौतम की भूमि को
सपनों से भी प्यारा हिंदुस्तान बनाएं
नया खून है...

दाग गुलामी का धोया है जान लुटा के
दीप जलाए हैं ये कितने दीप बुझा के
ली है आज़ादी तो फिर इस आज़ादी को
रखना होगा हर दुश्मन से आज बचा के
नया खून है...

हर ज़र्रा है मोती आँख उठाकर देखो
मिट्टी में सोना है हाथ बढ़ाकर देखो
सोने की ये गंगा है चांदी की जमुना
चाहो तो पत्थर पे धान उगाकर देखो
नया खून है...


Chodo-Kal-ki-Baate-Kal-Ki-Baat-Hum-Hindustani-(1960)

छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी-हिंदी लिरिक्स 

Chhodo kal ki baate, Kal ki baat puraani
Nae daur me likhege, Mil kar nai kahaani
Ham hidustaani ham hidustaani
Ham hidustaani ham hidustaani

Aaj puraani zajiro
Ko tod chuke hai
Kyaa dekhe us mazil ko
Jo chhod chuke hai
Chaad ke dar par jaa
Pahuchaa hai aaj zamana
Nae jagat se ham bhi
Nata jod chuke hai
Naya khun hai nai
Umage ab hai nai javaani
Ham hidustaani ham hidustaani

Aao mehanat ko
Apna imaan banaae
Apane haatho se apna
Bhagavaan banaae
Raam ki is dharati ko
Gautam ki bhumi ko
Sapano se bhi pyara
Hidustaan banaae
Naya khoon hai
Naya umang hai
Ab hai nayi jawaani
Ham hidustaani
Ham hidustaani

Har zarraa hai moti
Aankh uthaakar dekho
Mitti me sonaa hai
Haath badhaakar dekho
Sone ki ye gagaa hai
Chaadi ki jamunaa
Chaaho to patthar pe
Dhaan ugaakar dekho
Naya khoon hai
Naya umang hai
Ab hai nayi jawaani
Ham hidustaani
Ham hidustaani

Chhodo kal ki baate
Kal ki baat puraani
Nae daur me likhege
Mil kar nai kahaani
Ham hidustaani ham hidustaani
Ham hidustaani ham hidustaani


Chodo Kal ki Baate, छोड़ो कल की बातें, कल की बात पुरानी, Lyrics In Hindi, Hum Hindustani (1960), Sunil Datt, Asha Parekh,
FM Hindi Song
FM Hindi Song

नमस्कार दोस्तों मैं FM Hindi Song की और से आप सभी का धन्यवाद देता हु जो आप जो आप सभी ने इस ब्लॉग को अपना समझा साथ ही अपना प्यार और सहयोग दिया..

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें